धोरा री धरती पर ओ तो उड़तो आवे रे घोड़ो बाबा रो

धोरा री धरती पर ओ तो उड़तो आवे रे घोड़ो बाबा रो

धोरा री धरती पर ओ तो,
उड़तो आवे रे,
घोड़ो बाबा रो,
ओ घोड़ो पीरा रो।।



रूणिचा से चाल्यो घोड़ो,

पुंगलगढ़ मे जावे,
बाई शुगना रे सासरिये रा,
सगळा हाल सुनावे,
शुगना बाई रे बीर रा,
ओ दर्श करावे रे,
घोड़ो बाबा रो,
ओ घोड़ो पीरा रो।।



सेठ सेठानी जावे रूणिचा,

मारग मिलगया चोर,
घोड़लिए री टाप सुनी जद,
भागया रन न छोड़,
भगता रे ऊपर भीड़ पड़ी जद,
दोड्या आवे रे,
घोड़ो बाबा रो,
ओ घोड़ो पीरा रो।।



बांन्यो बोहीतो गयो विदेसा,

माल घणो रे कमाई,
सोनी जी न हार बनायो,
मन मे लालच आई,
डूबन लागी झाझडली न,
पार लगावे रे,
घोड़ो बाबा रो,
ओ घोड़ो पीरा रो।।



रूनीचे से चाल्यो घोड़ो,

भगता के घर आवे,
वीणा तंन्दुरा नौबत बाजे,
देव सभी हरसावे,
विष्णु सागर घोडलिये न,
शीस नवावे रे,
घोड़ो बाबा रो,
ओ घोड़ो पीरा रो।।



धोरा री धरती पर ओ तो,

उड़तो आवे रे,
घोड़ो बाबा रो,
ओ घोड़ो पीरा रो।।

गायक – गोपाल सोनी रतनगढ़।
9982095020


Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *